Hindi Poems

हिंदी भाषा का क्या कहना

हिंदी भाषा  का क्या  कहना
 
देवनागरी लिपि है जिसकी
उर्दू फ़ारसी जैसी बहना
संस्कृत से उद्धृत हुई है
भाषाओ में है ये गहना
हिंदी भाषा   का क्या  कहना।
 
निश्छल जैसे गंगा यमुना
कई देशों में बोली जाती
औरों को भी बनाती अपना
कबीर , सूरदास के दोहे पढ़िए
या दिनकर , गुप्त की अद्भुत रचना
हिंदी भाषा   का क्या  कहना।
 
हिंदी साहित्य की बात निराली
श्रृंगार रस है होता अति सुन्दर
वीर रस भरता साहस है
करुण रस से भावुक होते
हास्य रस का मतलब हँसना
हिंदी भाषा  का क्या कहना।
 
हिंदी बस एक भाषा नहीं है
भारत की पहचान है हिंदी
भारतीयों को कहते हिंदी
यूँ तो देश में हैं अनेक भाषाएँ
काम है इसका जोड़ के रखना
हिंदी भाषा   का क्या  कहना।
 
हिंदी दिवस के इस शुभ अवसर पर
आएं हम सब ये ठाने
अगली पीढी को हिंदी सिखाये
चाहे देश विदेश में रहना
हिंदी भाषा  का क्या कहना। 
                                                            शिवेश, ऑस्ट्रेलिया 

Page 5 of 16

Search