Hindi Poems

भारतीयता

जाति-धर्म चाहे कोई भी हो,

        संस्कृति हमारी हो भारती|

                  भारतमाता के आँगन में,

                               हिन्दी-दीप से उतारें आरती        

तुलसी क्यारे सी हिन्दी को,

     हर आँगन में रोंपना है|

         यह वह नन्हा पौधा है जिसे,

           हमें नई पीढ़ी को सौंपना है|

                              -मंजु‘महिमा’-

'तुलसी क्यारे सी हिन्दी को,

          हर आँगन में रोपना है.

यह वह पौधा है जिसे हमें,

           नई  पीढ़ी को सौंपना है. '

 

                                  ---मंजु महिमा 

 

{fcomment}

 

Page 16 of 16

Search